रुचि के स्थान

 

ऊना

ऊना शहर का दृश्य

ऊना शहर का दृश्य

ऊना शहर, जो कि जिला मुख्यालय है, स्वां नदी के किनारे स्थित है, जो की सतलुज नदी की सहायक नदी है। इस क्षेत्र में प्रचलित विश्वास के अनुसार, महान ऋषि बाल्मीकि ने रामायण में इस नदी को “सोम भद्रा” के रूप में नाम दिया था, जबकि ऋग्वेद ने कहा था कि यह “स्वस्तु” है।  ऊना का “आएने अकबरी” में जलंधर दोआब के राज्य के रूप में उल्लेख किया गया था, जो की मुगल काल का ऐतिहासिक ग्रंथ था। 

ऊना, जिला मुख्यालय के अलावा, बेदी परिवार का भी निवास होने के महत्व को मानते हैं, जिनके पूर्वज बाबा कलाधारी, जो गुरु नानक के वंशज थे। दसवीं सिख गुरु गोबिंद सिंह के समय में वे कुछ वर्षों से जलंधर दोआबा में विचरण करने के बाद, अंततः यहाँ नीचे बस गए क्योंकि उन्होंने अनुयायियों की एक भीड़ को आकर्षित किया जो पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब पर उनका प्रशंसात्मक भाषण सुनने के लिए आते रहे। आज भी बाबा कलाधारी के वंशज ऊना के किले में रहते हैं।

जिला मुख्यालय बनने के बाद ऊना शहर ने वाणिज्यिक और व्यापार गतिविधियों के अलावा जबरदस्त विस्तार देखा है।

 

धर्मशाला महन्ता

धर्मशाला महंता

धर्मशाला महंता

ऊना-धर्मशाला मार्ग पर भरवाई नामक स्थान से लगभग 8 किलोमीटर की दूरी पर धर्मशाला महंता नामक गांव में डेरा बाबा नकोदर दास की गद्दी है। लोगों का विश्वास है कि लगभग चार सौ वर्ष पहले यहां बहुत घना जंगल था। इस स्थान से डेढ़ मील दूर एक गांव था, जिसे नीचे की धर्मशाला कहते थे। वहां से एक ब्राह्मण प्रतिदिन यहां पशु चराने आया करता था। एक दिन उस ब्राह्मण के मन में तपस्या करने की प्रबल इच्छा हुई तथा वह यहां स्थित वट-वृक्ष के नीचे तपस्या में लीन हो गया तथा फिर वापिस अपने घर नहीं गया। तपस्या में लीन रहते हुए वह केवल दूध् का ही प्रयोग करता था। धीरे-धीरे ब्राह्मण की तपस्या की महिमा दूर-दूर तक पहुंचने लगी। तत्पश्चात एक दिन एक महात्मा ब्राह्मण की परीक्षा लेने इस स्थान पर पहुंचे। उन्होंने ढाई चावल के दाने पीस कर दूध् में मिश्रित कर दिए। तब ब्राह्मण ने अपने योग बल से तीन चावल के दाने दूध् में से निकाल लिए। अतः अभी भी यहां के महंत परीक्षा लेने वाले महंत के वंश को  श्रधा सुमन अर्पित करते हैं। 

यहां के महंत पहले गद्दी के चढ़ावे को गरीबों में बांट दिया करते थे, किन्तु माता गौड़ जी ने इस प्रथा को समाप्त करके यहां 24 घंटे का सदाव्रत लंगर खोल दिया। अंग्रेजों के समय में इस क्षेत्र के जिलाधीश रात को वेश बदलकर तथा घोड़े पर सवार होकर इस स्थान पर आए। उन्होंने सुन रखा था कि यहां 24 घंटे का सदाव्रत लंगर रहता है। इस बात को जानने के लिए जब उन्होंने भोजन की मांग की तो उन्हें भोजन प्रदान किया गया। वह बहुत प्रभावित हुए तथा उन्होंने गद्दी पर विराजमान महंत जी को कहा कि तुम बिना किसी आज्ञा से जब चाहो लंगर के लिए लकड़ी ले सकते हो।

इस स्थान पर एक बाबड़ी भी है जिसे ‘पाप खंडन’ के नाम से पुकारा जाता है। लोगों का विश्वास है कि यदि कोई व्यक्ति भूत-प्रेत की छाया से प्रभावित हो और इस बाबड़ी के जल से स्नान करे तो वह बिल्कुल ठीक हो जाता है। इसके अतिरिक्त जल से स्नान करने वाले व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं एूर्ण हो जाती हैं।

महंत लक्ष्मीध्र जी के समय डेरे में बहुत से विकासात्मक कार्य हुए हैं। डेरे की दीवारों पर कई भिंत्ती चित्रा उकेरे गए हैं। महंत लक्ष्मीध्र जी की मृत्यु के पश्चात अब टिक्का श्री शरीश चंद्र जी ने यह गद्दी संभाली है।

यहां बैसाखी के दिन तथा सैरी की सक्रान्ति को बहुत बड़े मेलों का आयोजन किया जाता है। श्राद्ध के दिनों में पितृ-पक्ष में श्राद्ध की पष्ठी तिथि को नकोदर दास जी का मुख्य श्राद्ध किया जाता है। इस अवसर पर पांच-सात गांवों के लोगों को यहां आमन्त्रित करके लंगर लगाया जाता है।

 

शिव बारी  – गगरेट

शिवलिंग, शिवबारी मंदिर गगरेट

शिवलिंग, शिवबारी मंदिर गगरेट

होशियारपुर-धर्मशाला रोड पर, स्वां (सोम्भद्रा) के तट पर गग्रेट के पास शिव बारी मंदिर स्थित है, जो कि गुरु द्रोणाचार्य के तीरंदाजी विद्यार्थियों के लिए अभ्यास सीमा थी। एक धारणा के अनुसार शिव बारी में भगवान शिव का मंदिर, गुरु द्रोणाचार्य ने अपनी बेटी जयती को भगवान शिव की पूजा करने के लिए बनबाया था। 

इस क्षेत्र के हजारों लोग जुलाई / अगस्त के महीनों के दौरान शिव लिंग पर फूल चढाने के लिए शिव मंदिर जाते हैं। मंदिर के चारों ओर बहुत घना जंगल है। रात के समय में क्या, लोग दिन में भी जंगल में प्रवेश करने की हिम्मत नहीं करते हैं। शिव बारी के आसपास औद्योगिक क्षेत्र गगरेट है जहां काफी सारे उद्योग स्थित हैं। गगरेट में विकास खंड का मुख्यालय भी है।

 

 

पीर निगाह – बसोली 

जिला मुख्यालय ऊना के पास एक और महत्वपूर्ण मेला, पीर निगाहा का मेला आयोजित होता है। पीर निगाहा का मंदिर बसोली गांव में स्थित है जो  कि  ऊना से लगभग आठ किमी दूर है।  पिछले कुछ सालों में इसे प्रसिद्धि मिली थी। इससे पहले प्रत्येक मंगलवार को ‘विक्रमी महीने जेठ’ में एक मेले का आयोजन किया जाता था, जब लोग बुरी नज़र और बीमारियों से बचाने के लिए पशुओं को लाते थे। लेकिन अब हर गुरुवार, और विशेष रूप से महीने के पहले अर्थात् ‘जेठा वीरवार’  को पंजाब के आस-पास राज्य से भी बहुत से श्रधालु आते है। जिला प्रशासन के सक्षम मार्गदर्शन के तहत स्थानीय पंचायत, मंदिर की यात्रा करने वाले भक्तों / तीर्थ यात्रियों को और अधिक सुविधाएं प्रदान करने का प्रयास कर रही है।

 

ध्युन्सर महादेव -तलमेहरा

धुनसर महादेव मंदिर तलमेरा

धुनसर महादेव मंदिर तलमेरा

ऊना जिले के बंगाना तहसील में तलमेहरा के पास बहई गांव में स्थित, ध्युन्सर महादेव मंदिर धौर्येश्वर सदाशिव तिराथ (मंदिर) का भ्रष्ट रूप है। ऐसा माना जाता है कि पांडवों के ‘कुल-पुरोहित’ (पारिवारिक पुजारी), धौमिया ऋषि इस जगह पर घूमते हुए  आये और यहाँ की शांति और सुंदर परिवेश से आकर्षित हुए, भगवान महादेव की पूजा करने के प्रति सम्मान में बैठे।  ऋषि ने भगवान शिव से प्रार्थना की और यह वरदान माँगा कि जो इस स्थान पर उसकी पूजा करेगा, उसकी इच्छा पूरी हो जाएगी। उस समय के दौरान इस जगह को धुमेश्वर सदाशिव तीरथ का नाम मिला जो आधुनिक समय में ध्युन्सर महादेव हो गया।  ‘शिवरात्रि’ के शुभ अवसर पर, यहां एक मेला आयोजित किया जाता है जब मंदिर में ‘शिव लिंग’ को “ओम नमः शिवय” का जप करते हुए विशाल सभा की उपस्थिति में दूध और मक्खन के दूध से नहाया जाता है। 

पचास साल पहले, स्वामी आनंद गिरि उत्तरकाशी से आए थे और बुरी तरह क्षतिग्रस्त और जलाए गए मंदिर को एक खूबसूरत जगह में पुनर्निर्मित किया था। इस बीच में कुछ नए विश्राम स्थान भी बनाये गए हैं और भक्तों और तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए एक पानी की टंकी भी बनाई गई है।

 

अंब

अंब, जसवान राज्य का एक भाग, जो कि धर्मशाला-ऊना-चंडीगढ़ रोड पर लगभग 32 किलोमीटर दूर स्थित है। पुराने दिनों में यह जसवाल राजा के बागों के लिए जाना जाता था। 1972  में जिलों के पुनर्गठन के बाद अंब को उप-मंडल मुख्यालय की पहचान मिली। होशियारपुर से हमीरपुर, चंडीगढ़-ऊना-अंबा-नादौन-ज्वालामुखी और काँगड़ा-चंडीगढ़-दिल्ली और तलवार-मुबारिकपुर-ऊना आदि सड़क मार्ग अंब के माध्यम से गुजरते है, इसलिए यह एक महत्वपूर्ण शहर है।अंब में एक सरकारी डिग्री कॉलेज भी है। क्षेत्र के लोग उस दिन उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं जब ऊना-तलवाड़ा- मुकेरियां रेल लिंक आरम्भ हो जायेगा, जो कि निश्चित रूप से आर्थिक विकास के नए रास्ते खोलेगा ।